Friday, June 4, 2010

अनॉनिमस से मदद की माँग

Anonymous said...
एक भ्रम यहां बार-बार फैलाया जा रहा है चंदन जी को बहुत पढ़ा जाता है !!

दूसरी जगहों का तो नहीं पता लेकिन ब्लाग की दुनिया में उनकी हालात काफी खराब है !!

Site Information for nayibaat.blogspot.com

• Alexa Traffic Rank: 4,195,073
• No regional data

आप सब की सुविधा के लिए मैं एलेक्सा की अभी की रेटिंग्स को सामने रख दिया है। आप लोग इस रेंटिग्स की तुलना दूसरों की रेटिंग्स से कर लीजिएगा जो साहित्य/पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं। जो गंभीर ब्लागर माने जाते हैं।(सस्ती लोकप्रियता वाले ब्लाग को छोड़िए। मैं उससे चंदन जी के संजीदा ब्लाग की तुलना नहीं करना चाहता।)


अनॉनिमस भाई, धन्यवाद. ये सारी तकनीक चीजे बता के आपने मेरी भारी मदद की है. दरअसल ब्लॉग पर पोस्ट करने और यू.आर.एल लिंक देने के अलावा मुझे इसकी कोई तकनीक समझ मे नही आती. मेरे ब्लॉग का जो डिजाईन है वो भी मुझे पसन्द नही है पर उसे चेंज करना मुझे नही आता. पर यार अगर आप इतना कुछ जान रहे हो तो क्या ये बता सकते हो कि इसे ट्रेफिक कैसे करते हैं? या इसे बढ़ाने के कौन कौन से उपाय हैं? मैं इसीलिये इसे पोस्ट की तरह लिख रहा हूँ ताकि आपको इसकी गम्भीरता का अन्दाजा हो. यह भी एक बात है कि इस ब्लॉग पर ठीक ठाक चीजे ही पोस्ट करता हूँ तो आकांक्षा यही होती है कि लोग इसे देखें. ब्लॉग वाणी पर भी कुछ समझ मे नही आता कि ये सब कैसे होता है?

आप प्लीज अपने नाम के साथ या चाहो तो बिना नाम के ही हेल्प मी ऑउट. अगर आपके पास कोई तकनीक मदद हो तो कृपया जरूर करें. आप चाहे तो मेरे gmail account पर ही मुझे बता दें- chandanpandey1@gmail.com . मेरा मानना है कि जो बात आपने बताई है, इस तरह की कोई भी बात आप खुलेआम और खुलेनाम बताईये. क्योंकि रेटिंग वगैरह कम बेस तो चलता रहता है,कभी फेडेक्स(रोजर फेडरर) की रैंकिंग 274 थी. आज देखे रहे हैं कहाँ है वह? अभी कुल छ: महीने ही तो हुए ब्लॉग लिखते हुए. प्लीज अगर आप तकनीक दक्षता रखते हो तो जरूर बताओ कि इसे किस तरह बढ़ाया जाये? प्लीज.

22 comments:

अमित said...

वो क्या दिखायेंगे राह तुमको जिन्हें खुद अपना पता नहीं है

Aparna said...
This comment has been removed by the author.
Anonymous said...

mai bhi philhaal anonymous he rahna pasand karunga..khas kar ke is post ko sandarbh me..lekin ek baat mai saaf kar du ki mai na to koi sahaitya ka gambhir padhak hun na to koi hatash aur asafal lekhak.. meri is tippani ki bas ek sadharan se maksad hai apani roj marre ki gutthi se upje huye ek sawal jo ki aap kis post ne thoid prabal ho gayi.. kal hi mai kuch market research company ke sath meeting me tha, aur us do ghante ki mulakat me.. unka bas ek hi baaat ka rona tha ki is desh ki rating culture nahi hai.. logon ko pata nahi hai ki kaise rating karein commerical products.. hospital ko.. schools ko.. trasport serivces ko.. telephone serivces ko..kahir unki khas chinta is meeting me thi schools ki rating karne ko lekar.. chuki abhi bhi sarkari is deksh me schools chal rahe hai..unme bahit aise hai jo kuch mulyon jaise shikha ka udeshya ek achcha insaan banana.. sarkari udeshya ke mutabik ek achah nagrik banana.. jaise hai..iske alawa gure shishay parampara aur shikshak ka samaj me sthan ek alag sansakritik rup se jatil sawal hai.. ye kuch had tak private schools ko panane na dene ke liye kafi hai.. agar private schools kukumrmute ki tarah ug aaye to unko doosre commercial products ki brand ki tarah khub rating bhi ja sakati hai.. aur sath me rating industry jaisi nai sector bhi ubhar sakati hai.. Chandanbabu, aap ki apne aur apani blog ki rating or ranking ki ek khas aur gambhir tarah ki obsession dekh kar mujhe aisa lag raha hai ki sahitya padhane wale unse badh kar likhen wale jo manviye jindgi ki jatiltayon ko samajik rup se sajha karane ki koshish aur ek nyaypurn manviye jindgi ki prati samaj ko unmukh karane ki jimmedari ek tarah se naisargik tarah se vikasit ho jati hai...unko bhi bazar ki is ranking sidhant me itna bhrosha hai.. shayad aap ye kah sakate hai ki sahitya bhi bajar se pare nahi hai.. aur ise bikau ho bhi jaye to koi khas pareshani nahi hai.. mai to ise lekhak aur ek darshnik ki baat samajh kar man lunga.. lekin mere jehan me ek sawal tab nhi rah jayegi ki kya sahitya jisme alachantamkta na ho.. jisme samaj ko dekhne ki drishti me nyaya ki prevarti (proclivity) na ho .. kis tarah ki sahitya hogi aur uska samaj se khas kar ki nyayaprarthi varg se kya samvandh hoga..

Anonymous said...

@Anonymous
It is good that you can speak your mind (though you are not bold enough to reveal your identity). I am also not a writer and i dont have a very deep understanding of literature. But i do have an understanding that literature is different from toothpaste. May be it takes an MBA degree to make a successful connection between these two(But Chandan ji is an exception in that).
The responsibility of the writer should be first with the creation and nobody will doubt Chandan on it. The other issue is a code of conduct for a writer which you are trying to set. How valid is it??? The writer is also a human being and has the right to decide his ways till he anounces himself as a Superman. Everyone should love ourself first and if i love it when more people visit my blog then there is no harm in it.

For Anonymous: There are so many other good issues to talk on...please dont try to create unwanted sensation and waste creative energy!

For Chandan: The comments on your Blogs are all part of your treasure. Please dont waste your heart on negative ones....i felt you are being little offensive which is not good for your work. As far as defence is concerned....you work will do it..you dont need to!!

--- BODHISATVA

Aparna said...

@ Anonymous....... When i read about your rating stuff, i thought that you have a good technical knowledge regarding Internet or BLOG world but its sad to know that you are not.... I am also not having a very deep knowledge about Literature but as much I know, it can't be compared with the Commercial products....

You are not supposed to relate products commercialization & product ranking with the studies & literature..You need to know about the topic before writing about it, So at least I always appreciate the Writers for their versatile thoughts on different issues....They have the power to let you think & think again.... We'll appreciate if you really help Chandan for the better approach towards blogging.......

Anonymous said...

हद है, एक ने न जाने क्या सोच कर अज्ञात के कमेंट को पोस्ट बना दिया। नतीजा यह हुआ कि दूसरा अज्ञात भी आ धमका। बेचारे ने एक बड़ी ही वाजिब बात कही। लेकिन पाण्डेय परिवार को वह नागवार गुजरी। अब यहाँ अज्ञात की इतनी इज्जत है तो मैंने सोचा मैं भी अज्ञात ही रहुं।

@बोधिसत्व, लगता है कि तुम आजकल अपनी अंग्रेजी पर काफी मेहनत कर रहे हो। तुमने नाम से कमेंट किया है तो खुद को बोल्ड भी समझते होगे। काश कि तुम थोड़ी मेहनत अपनी अक्ल पर धार देने में भी करते। इतनाा लम्बा पोथन्ना पढ़ने से पहले तुमने दूसरे अज्ञात जिसने रोमन में लिखा है उसका कमेंट पूरा तो पढ़ते। जैसे मैंने पढ़ा। दूसरे अज्ञात के कमेंट से जाहिर है कि वह साहित्यप्रेमी है। लेकिन दूसरे पेशे में है। तुम्हे छोटे पाण्डे को बचाने की इतनी अधीरता नहीं दिखानी चाहिए थी। उम्मीद है अब तुम मेरी चुभती हुई बातों का प्रतिक्रिया देने की बजाए दूसरे अज्ञात का कमेंट पूरा पढ़ोगे और अपने कहे के लिए माफी मांगोगे।

@अपर्णा, मोहतरमा आपको मेरी विनम्र सलाह है कि आप दूसरे अज्ञात का कमेंट पूरा पढ़ें। उसके बाद कुछ कहें। आपको मालूम हो कि दूसरे अज्ञात ने चंदन पाण्डेय द्वारा अपने ब्लाग को लोकप्रिय बनाने के लिए अज्ञात से की गई भावुक मांग के खिलाफ ही दूसरे अज्ञात ने लिखा है। दूसरे अज्ञात ने लिखा है कि चंदन को ऐसी सस्ती लोकिप्रियता में नहीं पड़ना चाहिए।

@चंदन पाण्डेय
ब्लाग जगत में जो चीज सबसे अधिक हिट है वो है विवाद। तुम्हारी पिछली पोस्ट में तुमने जो अहमकाना बातें लिखी और प्रबुद्ध पाठकों ने उस पर जो प्रतिक्रिया दी उससे तुम्हें रेटिंग लाभ अवश्य हुआ होगा।
रही एलेक्सा रेटिंग की बात। तुम उसे बढ़ाने के लिए कोई जुगाड़ नहीं लगा सकते। जुगाड़ और चमचागिरी से हर क्षेत्र में आगे नहीं बढ़ा जा सकता !! (एहसान मानो कि मेरे इस कमेंट से तुम्हें कुछ हिट्स मिलेंगे)

*** चंदन पाण्डेय जी के ब्लाग पर या तो ब्राह्मण समुदाय के लोगों के कमेंट होते हैं या फिर उनकी अभिन्न मित्रों के !! पाठक कहां गए ??

Roma George said...

Bodhisatva and Aparna,

You can not be disparaging to someone who does noy wish to reveal her/his identity for expressing his/her views. He might not necessarily be being strategic and tactical. It is immensely pleasing that (both of)you appreciate Chandan so much. However, you must know that being an admirer and being a synchophant are two mutually exclusive categories. Synchophancy actually emasculates you to look critically at the person whom you like in plenty. please pardon me to say this but the kind of advice that you have offered to Chandan, in my view, resembles to synchophancy. I think the quesiton(s) raised by our anonymous friend is of high relevance (though not put in cogent language!) and pertinently corresponding to time we live in. This quesiton actually pertains to the time of onslaught consumerism, leading to notion of equating infomred consumers with cultured beings or in many circumstnaces referring to cutlrally superior beings, in the time of neoliberal threat of homogeniety/isation of all cultures, knowledge system, and also historically evolved belief systems (please dont equate it with religious and 'dogmatic' beliefs). The question of rankings and ratings basically entials if it is possible at all to rate or rank the intrinsic values or characters of a thing. The person has taken good example of education. In case of even blog's rating, it is possible that large number of people visit one blog, helping it achieve good rating, but is it possible to know how satisfied, pr how much joy these readers derived from visiting a website and blog. Chandan's covetous analogy with Federar is problematic and in my view, is uniformed as well. The world of Tenis, and many other sprots and thier relation with commerce and business,and their social ramifications, and even their effects on the very soprts is not unknown. Actually, this mechanism of rating breeds populism, where people are condititioned to see the values through others' eyes. Rating is basically objectified, and can not be equated with critique.
Though, I understand that Chandan just wants his blog to be popular enough. I know, he very well understands that a particular author can not satiates the needs and tastes of all readers. Though, it is possible that one can choose to be the author for the audience, whose number in a given time and society would exceed other set of readers.
Even if he does not acquire good rating (i dont how one gets) his is not going to lose his readers, if readers talk about a piece of writing or about the author, that is best reward for an author. And not the rating.

चन्दन said...

Roma, U r with valid point but I have not asked about ratings only. First of all, I have asked suggestions regarding blog’s over all development. Whether it is design concerned and others ( Please do refer to the piece I have written.). Now for Rating, I have responded him in positive manner that please don’t bother about that, one day we will also do it. Till last date, until that good anonymous talked about some alexa, I did not at all know about any rating/ranking in blog world.
U can see my blog design and setup , it lacks simple decoration but I never tried for this even. This was your and now our good friend anonymous who triggered this rating issue.

Can I wish that u may understand this?

चन्दन said...

अनोनिमस अंकल, आप गलत बात कर रहे हैं. मैने आपसे कोई जुगाड़/चमचागिरी का तरीका नही मांगा था. आपने भी ध्यान से पढ़ा होता तो पाते कि मैं ओवरआल ब्लॉग डेवलपमेंट की बात कर रहा था. उसमें ब्लॉग डिजाईन भी शामिल है. रेटिंग की बात तो अनॉनिमस ने शुरु की वरना मैं जानता भी नही था कि ब्लॉग जगत में भी रेटिंग/रैकिंग चलती है. ब्लॉग की शुरुआत भी मैने अपने मित्र सन्दीप और चन्द्रिका को देख कर किया. आपको इस तरह नही भड़कना चाहिये. बिना नाम के हों या बिना पता के, काम की बात करेंगे तो किसी की भी इज्जत होगी.

दूसरे, अपने जाने में जो आपने बड़ी उंची बात उगाई है कि सिर्फ मेरे मित्र ही मेरा ब्लॉग पढते है और कमेंट करते हैं तो पहली बात की यह सही नही है. फिर मैं तो यह चाहूँगा कि सभी पढ़ने लिखने वाले मित्र बने. दूसरी बात कि आप भी तो पढ़ रहे हो! पढ़ कर ही आपने अहमकाना कहा होगा. आपको इसकी खातिर नाराज होने की जरूरत नही है. बोधिसत्व सचमुच में अंग्रेजी का अच्छा जानकार है और अपर्णा ने जो बाते उठाई है आप उसे भी गौर कर लेते, मित्र. यह कोई तरीका नही कि आप अनाम बनके ऐसी भाषा में बातें करो.

Anonymous said...

चंदन,
अब तुमने मुझे अपना 'चचा' मान ही लिया है तो कमेंट करते वक्त इस रिश्ते का लिहाज रखते। ('चचा' कहा है तो मुझे तुम्हें तुम कहना अनुचित न होगा।)

बात यह है प्यारे 'भतीजे' कि तुमने अपने मित्रों के ब्लाग-गमन पर अपनी राय दी लेकिन पाण्डेय समुदाय के बारे में चुप रहे !
प्यारे 'भतीजे',बोधिसत्व का जरा परिचय तो दो, हम भी देखें उनके अंग्रेजी ज्ञान का प्रमाण !

'चचा' मान लिया है तो मैं तुम्हें कोई ऐसी बात नहीं कहंुगा जिससे तुम्हारी सरेआम बेइज्जती हो। लेकिन प्यारे भतीजे यह तो कहुंगा कि जिस तरह तुमने मुझे अपर्णा जी के कमेंट में लिखी महानता को देखने को कहा है उसी तरह काश तुम उन्हें और बोधिसत्व को कहते कि वो तुम्हारे लिए लाठी चलाने से पहले कमेंट पूरा पढ़ लिया करे। जाति या संग के मोह में उटपटांग न बका करें !

प्यारे भतीजे,तुमने मुझे चचा मान ही लिया है इसलिए तुम्हारे सुखी और सफल भविष्य के लिए शुभकामनाएं।

चन्दन said...

अनॉनिमस यार तुम इतनी अलग दुनिया में चले गये लगते हो दोस्त कि तुमसे कोई बात सम्भव ही नही है. मुझे लगा कम्प्यूटर वगैरह इस्तेमाल करते हो तो आधुनिक किस्म के स्लैंग से भी वाकिफ होगे. समझाता हूँ- जैसे एक शब्द है मामा. अब मामा शब्द का प्रयोग पारम्परिक अर्थों में माँ, चाची के भाईयों के लिये होता है पर प्रचलित शब्दावली में इस युवा लोग पुलिस वालों के लिये भी करते हैं. इसी तरह मित्र, अंकल शब्द उन लोंगो के लिये स्लैंग बन चुका है जो बात का कोई छोर समझ ही नही पाते. आपका कोई मित्र किसी प्राईवेट फर्म में काम करता हो तो उससे जरूर पूछना.

चन्दन said...

मिस्टर अनॉनिमस, जितनी इज्जत आपको इस ब्लॉग पर बख्शी गई वो कही नही मिलेगी. पर आपने इसका मजाक उड़ाया. मैं लोगों की कद्र करता हूँ इसलिये आप कुछ भी बकवास कर रहे हो. आपको आगे अगर अपनी बात रखनी हो तो कृपया अपने शुभ नाम के साथ पधारें और प्रॉपर परिचय के साथ. मेरा ब्लॉग पढ़ा जाता है कि नही, इसका सर्टिफिकेट तुम क्या दोगे मूर्ख, बेनामी? मैने एक सलाह मांगी थी और तुमने उसका मजाक उड़ाया. शर्म है या घोल के पी गये हो? कस्बाई होते तो मेरे आग्रह का मजाक नही उड़ाते. और हाँ अंकल दोस्ताने में कहा जाता है, एक स्लैंग जो उतना बुरा नही है, ये वैसे ही है जैसे हम दोस्तो को साले, बदमाश या दुष्ट कहते हैं.

First of all you come with your good name, if you have.

addictionofcinema said...

वाह वाह मुझे नहीं पता था की घटिया सी फिल्म की समीक्षा पे इतना कुछ मसाला मिल जायेगा. बात इतनी नीचे चली जाएगी. मैं अज्ञात भाई साहब (कृपया चन्दन इस संबोधन से मेरा कोई नया रिश्ता न खोजें) को सिर्फ इतना बताना चाह रहा हूँ पाण्डेय होने में न अपना कोई योगदान है न कोई दोष. सरकार पाण्डेय के घर पैदा हुए तो पाण्डेय हो गए खान के घर पैदा होते तो खान हो जाते. इसमें क्या बात करना, हाँ अपने ध्यान दिलाया तो सोचने लगा की अभी तक पाण्डेय लिखता ही क्यों हूँ. तो ऐसा है गुरुवर की मेरी पहली कहानी साहित्य अमृत में २००४ में छपी थी. उसमे मैंने नाम दिया था विमल चन्द्र और पाण्डेय हटा दिया था. हालाँकि ये बात मेरे घर के बड़े पाण्डेय यानि मेरे बाप को पता चली तो उन्होंने नाराज़ होते हुए कई श्लोकों और कई ग्रंथों के माध्यम से जो बात कही थी वो आपके कथन से फिर से याद आ गयी...बहरहाल कहानी पे एक छोटा सा चेक आ गया जो आजतक भुनाया नहीं जा सका क्योंकि बैंक में स्कूल सर्टिफिकेट में सब जगह पाण्डेय हो चुका था. हम जिस तरह के सरोकारों से आपस में जुड़े हैं और आप भी इस ब्लॉग पे विसिट करते हैं तो मानता हूँ की आप भी कहीं न कही सहगामी ही हैं, हम इतनी सतही बातें कैसे कर सकते हैं. leechadai (ये शब्द हिंदी में टाइप नहीं हो पाया) का भी एक स्तर होना चाहिए.
दुसरे अपने जिस दूसरे अज्ञात की बात की है वो पूरी तरह ज्ञात और सशरीर है. उसके सिस्टम में शायद कोई प्रॉब्लम आ गयी है जिससे वो अपनी आईडी से कमेन्ट नहीं लिख पा रहा और इसलिए उसने सिर्फ बोधिसत्व लिख दिया जो की उसका निकनेम. ये उसके प्रोफैल्स हैं जो बिलकुल खुले हैं सबके लिए...अब आप भी खुल जाइये अगर खुल सकते हैं. और हाँ उसकी इंग्लिश बहुत अच्छी है ये चीज़ अपने बहुत अच्छी पकड़ी है, इसके लिए आप बधाई के पात्र हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दूं की संघर्ष के दिनों में वह दिल्ली और गुडगाँव में कुछ समय इंतर्नाश्नल काल सेंटर्स में काम करने के बाद वहां ट्रेनिंग दे चुका है और Convergys और एकाध और काल सेंटर्स में एक्सेंट और लैंग्वेज ट्रेनर रह चुका है
ह्त्त्प://www.orkut.co.in/Main#Profile?uid=85123477861819136

http://www.facebook.com/profile.php?id=721092251&v=wall&story_fbid=126850200669628#!/profile.php?id=744212010&ref=ts
ये उसके विवरण हैं और उसकी ईमेल आईडी bodhisatvavivek@gmail.com है. आपक जितनी जानकारियां चाहे ले सकते हैं साहब और जैसा की अभी अपने लिखा था की आप इनके अंग्रेजी ज्ञान को परखना चाहते है तो अब आपके पास पूरे मौके हैं. अब जब आपकी शंका का समाधान हो गया, क्या आप अपना परिचय देने का साहस दिखायेंगे ? क्योंकि जिस बात में आपको विश्वास है और वो आप बोल रहे हैं तो पूरे guts से बोलिए अगर हो तो......और हाँ बोधिसत्व का पूरा नाम विवेक कुमार सिंह है पाण्डेय नहीं इसलिए वो जाती के लिए लाठी तो कतई नहीं चला रहा. अप किस चीज़ के लिए लाठी चला रहे हैं, बता देते तो अच्छा रहता. मेरे नाम के आगे ज़रूर पाण्डेय लगा है और आपको इतना पढने के बाद लगे की मैं इसी पाण्डेय लिखे होने के कारन ये सब लिख रहा हूँ तो मेरी आईडी पे संपर्क करियेगा, मेरा रांची में कांके रोड के पास एक दोस्त रहता है वो शायद आपकी कुछ मदद कर सके.
साभार
विमल चन्द्र "पाण्डेय"
vimalpandey1981@gmail.com

Anonymous said...

do u think u r very smart nad brave ? u hv put my comment on moderation and using abusive language for me in open. listen, do u think u cn argue with me if i will reveal my name ? (silly boy, i promise,after hearing my real name u will start suffering from loose motion !)

u nonsense,if u cnt tolerate a bit criticism then go to hell ! u nd ur casteridden blog r doomed to be criticism due to ur hypocricy....

चन्दन said...

अनॉनिमस, ऐसा नही है कि मैं अपनी आलोचना बर्दाश्त नही कर रहा हूँ. तमाम नामधारी लोग मेरी आलोचना करते हैं और मैं उनसे सीखता हूँ, अभी आपके ही साथ रोमा जॉर्ज ने आलोचना की है और मैने उन्हे शालीनता पूर्वक उत्तर दिया. आप बेनामी बन के, अपना मुँह छुपा के, कायरों की तरह वार कर रहे हैं. आपको इसका थैंकफुल होना चाहिये कि आपके बेनामी होने के बावजूद मैने आपको हर स्तर पर शालीन रहते हुए जबाव दिया और आप उसका नाजायज फायदा उठाते गये. तुम्हे यहाँ कोई गाली नही दे रहा है. डरो मत, यह सुसंस्कारित इंसान का ब्लॉग है.
तुम्हे अगर आलोचना करनी ही थी तो नाम के साथ करने मे क्या दिक्कत हो रही थी.यानी तुम्हे अपने कहे पर विश्वास नही था. अभी भी नाम के साथ आओ. मैं जब बेनामी के कमेंट को पोस्ट का दर्जा दे सकता हूँ तो इससे तुम समझ लो कि तुम्हारी हर डिबेट पर रेस्पॉंस करूंगा. सम्मान के साथ.

मैं जातिवादी नही हूँ पर इसका कोई भी प्रमाण मैं तुम्हे नही दूंगा. तुम्हारा मेरे जातिवादी होने का आरोप दरअसल अंगूर खट्टे हैं का आधुनिक और बेबस उदाहरण है.

और मैं तुम्हारा नाम जरूर जानना चाहूँगा, अगर एक बात पर रहने वाले होगे तो अपना नाम(जाहिर है अगर होगा तो ही) पता जरूर बताओगे. मैं एक बात और जोड़ता हूँ, क्योंकि तुम सरासर बद्तमीजी पर उतर आये हो, अगर औकात होगी तो नाम जरूर बताओगे. मैं सचमुच में डरना चाह रहा हूँ क्योंकि मैं डरना भूल चुका हूँ.

addictionofcinema said...

आपके सबसे खतरनाक होने की मैक्सिमम सम्भावना इतनी ही हो सकती है की या तो आप बराक ओबामा हो सकते हैं या ओसामा बिन लादेन और दोनों ही सूरतों में आशावादी चीज़ें निकल कर आती हैं. चन्दन डरना छोड़ चुके होंगे मुझे बेसब्री से इंतज़ार है की आपकी कुछ ऐसी ही पहचान निकले (अब क्या बताऊँ पिछले कुछ दिनों से constipation ने ऐसा जकड़ा है की...आपके कमेन्ट से बड़ी आशा बंधी है...आप समझेंगे नहीं लेकिन वाकई मैं बहुत पीड़ित हूँ) अगर आप ओबामा होते हैं तो ये बड़ी ख़ुशी की बात होगी की अमेरिका का राष्ट्रपति ऐसी चीज़ें पढने में भी रूचि लेने लगा है. हालाँकि ये एक बहुत रूमानी कल्पना होगी. अगर आप ओसामा हैं तो भी अच्छा लगेगा जानकर की बात बात पर वीडियो जारी करने वाला ओसामा अब मौखिक जेहाद पे उतर आया है. अब बता भी दीजिये हुज़ूर...डरा भी दीजिये सिली बच्चों को...

kundan pandey said...

mujhe samajh me nahi aa raha hai ki aap tamam log is bande ko itna bhav kyo de rahe hai..dekhiye sharafat ki bhi ek seema hoti hai.....jaha tk pandey family ke hi pathak hone ka sawal hai..ise to e batana chahiye ki is bande ko bhi iski family me bhi koi padhta hai ki nahi... matlb e sb betuka hai aise do kaudi ke logo ko itna bhav.?..is blog ko padhne ke baad ek soothing effect hota that jo is bande ne khatm kr diya hai..

baat itni nhi hai, e kuch bhi kr raha hai wo iski nazr me badtamiji nahi hai aur sare log badtameez hai...

dekh dost mai jaan bujhkr is post pe reponse de raha hu taki teri kahi baat jhuth na sabit ho jaye ki yaha sb brahamn hai..mai brahamn hu aur interestingly family se bhi belong krta hu... aisa isliye jaruri ho gaya kyonki agar tere characteristics hi secular characteristics hai to bhai ek baar apne ko check krna hoga ki kahi hum bhi secular to nahi...

yaar tu bahut bada tope hai aur aayega to prithavi hil jayegi..aasman fat jayega to aaja ek baar... e bhi dekhte hai na kuch to hoga jarur, ya to tujhe apni aukat pata chalegi ya bhir is blog se jude kuch logo ke..

aur tujhe padhe likhe insaan ki bhasha ka istemaal tk karne nahi aataa aur tu sahityik bidhao pr baat krne nikal pada...

aur kya likha jaye tere bare me.. jo tune bahas chhedi hai ranking ke visay ko lekar wo ek achha mudda ho sakta thha agar tu thoda sa padha likha hota...mera tatprya degree se nahi teri samajh se hai...
dekh saras salil ek magzine hai padha hoga jarur tune, manohar kahaniya aur bhi tamam pr yaar tu inki tulna kaha hans, katha desh jaisi magazine se kr di..

e to tere liye bhi dukh ka visay hona chaihiyae ki log aajkal km padhte hai.. ya teri tarah ke log hi hai jo un kaam kr krne walo ko bhi raste se bhataka ki kosis krte hai kyonki sb padh likh lenge to tere sath is bhasa me baat kaun karega.. inferiority complex ho jayega na beta... acchha ek baat bata agar dusare ke sambodhan se hi tere rishtey bante hai to ab tera mera rishta kya rishta hua? bol!
mai intejaar karunga tere bolne ka.. aur sun agar tujhe lagta hai ki tu kisi bhi mamale me bahut aage hai wo ya nichta ho ya uchai to krte hai na..competition.

shesnath pandey said...

विमल चंदन ...छोड़ो भी.... मुर्ख के पीछे पड़ने से क्या फायद.... ऐसे तोप को हमलोग बचपन में बेचकर सोनपापड़ी खाते थे...

shesnath pandey said...

विमल चंदन ...छोड़ो भी.... मुर्ख के पीछे पड़ने से क्या फायद.... ऐसे तोप को हमलोग बचपन में बेचकर सोनपापड़ी खाते थे....

Bodhisatva said...

हिंदी में टाइपिंग संभव नहीं अभी मेरे लिए ..और आज सबसे जादा कमी खल रही है इसकी .But Thanks Google!



सबसे पहले मै ये बता दू की मैंने especially आज login किया है अपनी ID के साथ बस यहाँ comment करने के लिए . इसमें थोडा वक़्त लगा लेकिन ये जरुरी था .



Dear Anonymous !

मै नाम से comment करने को boldness नहीं मानता , ये तो basic human quality है जो तुम्हारे अन्दर नहीं है तो तुम्हे बड़ी बात लग रही है . Bold तो मै हु लेकिन तुम्हारा digestive system ठीक नहीं लगता इसीलिए सभी लोग तुमसे moderate होके बात कर रहे है , मै भी कर रहा हु .



जहा तक मेरी English का सवाल है तो मै ये दावा नहीं करता की बहुत अच्छा हु लेकिन सीख रहा हु और इतनी काबिलियत है मुझमे की कम से कम तुम्हे पढ़ा सकता हु . लेकिन उससे पहले तुम्हे Psychiatrist की जादा जरुरत है ...मैंने Medical & Psychiatric social work में भी काम किया है ..तुम्हारी counselling भी कर सकता हु . जब तबियत बहुत जादा ख़राब लगे तो mail कर सकते हो . वैसे यहाँ पर जो भी comments (=symptoms) तुमने paste किये है उसे लगता है की depression का शिकार हो और Maniac Depressive Psychosis की तरफ जा रहे हो . ध्यान रखना दोस्त , तुम्हारी फ़िक्र रहेगी . (मुझे पता है मेरा psychology knowledge भी अच्छा है , बताने की जरुरत नहीं है )



मुझे चन्दन की कोई फ़िक्र नहीं और इसलिए उसकी तरफ से लड़ाई करने की भी कोई जरुरत नहीं है क्योकि वो काफी है अपने आप में . तुम्हारी घटिया भाषा ने उसे थोडा दुखी जरुर किया होगा ;सुन्दर सड़क पे अचानक कचरे का ढेर दिह्कायी पड़े तो shock लगता है . वैसे तुम्हारे जैसे तो डाटने से ही मर जाते है ..लाठी की जरुरत नहीं पड़ती .



पाण्डेय हो या पहलवान , हमारी दुनिया में इससे कोई फर्क नहीं पड़ता . अगर सभी लोगो के blogs & कमेंट्स पढोगे तो समझ में आ जाये शायद . हम सब जिन चीजो के खिलाफ लड़ रहे है तुम उनका ही आरोप लगा रहे हो . ये लड़ाई सिर्फ लिखने भर की नहीं जीने की भी है , इसके लिए हिम्मत चाहिए और वो समझ चाहिए जो तुम्हारे पास नहीं है दोस्त !



मै चन्दन का दोस्त बहुत बाद में बना . पहले उसकी कहानी पढ़ी - भूलना . फीर उससे मिला और आज मै सिर्फ पाठक ही नहीं आलोचक और दोस्त भी हु . अकेला नहीं ऐसे बहुत से लोग है जो पाठक जादा है दोस्त कम .



तुम्हारा last comment देख के लगता है की तुम्हारी मानसिक हालत काफी गंभीर है . बहुत जोर की लगी है तुम्हे कभी और आज तक पानी नहीं मिला . तुम पर तरस आ रहा है . अपना नाम बता दो शायद हम सब कुछ मदद कर दे . जनता हु बहुत हिम्मत का काम है तुम्हारे लिए , पैदा होने के बाद ये तुम्हारा दूसरा जनम होगा शायद . लेकिन हिम्मत कर के कोशिश करो दोस्त नाम और पता बताओ तुम्हे free package भेज दिया जायेगा personality develop हो जाएगी life बन जाएगी तुम्हारी .

__________

मै बेकार में famous हो गया एक अनाथ Anonymous के कारन . लेकिन फिर भी शुक्रिया सबको जिन्होंने मेरे बारे में कुछ भी लिखा . Roma जी ने कुछ गहरी और interesting बाते बड़ी उम्मीद से लिखी है इसलिए उनके कमेन्ट के ऊपर बाद में उनसे चर्चा करूँगा

अगर आगे कुछ काम की बाते हो तो ठीक होगा . वरना frustrated anonymous बिन आपना नाम बताये बकवास करता रहेगा !अगर पते का पता चले तब तो खबर लेने में मजा आये !

Aparna said...

@ Anonymous....I am also a BRAHMIN,agar koi aapati ho to naam ke saath vyakt karein..Its better agar aap jaativaad pe naa aaein kyunki yahan ke sabhi pathak aur lekhak, sahi mayne mein padhe likhe hain jinhe in baat se khaas fark nahi padta....You are only anonymous here as Bodhistava is always coming with his name for comments.......Don't talk about anyone's language knowledge here, because we all have a basic etiquette knowledge,which is very very important but unfortunately you lack that....I have read all the comments very carefully & realised that we all are wasting our precious time by reading your comments and talking to you.....

@ Chandan.........It'll be better if we move to our healthy atmosphere of the blog, which gives a relaxation and also where all praises & criticism are welcomed politely & in an actually educated way.......

@ Everyone....I Know he's not having guts to come with his name, even now I want to know who can be so silly with words....."Lets take a 1 min Silence break for Mr/Ms/Mrs ANONYMOUS, so that he can also feel some peace within..He need a peaceful treatment..." That's a Doctor suggestion.....

@ Roma.... I have read the comment of Bodhistava,there was nothing which you are trying to point out....

चन्दन said...

वैसे मैं यह अध्याय कल बन्द करने वाला था, पर आज ही सही, क्योंकि कल के नये सूरज के साथ नये काम होंगे. ब्लॉग से जुड़े कई मित्र यह सलाह दे रहे हैं कि अनॉनिमस का जबाव मत दो, ऐसे लोग कुछ भी गन्दा सन्दा बोल कर निकल लेते हैं या यह तर्क देते हैं कि उर्जा की फलतू बर्बादी मत करो. मैं इन मित्रों की सलाह मानता रहा और इसके पहले भी अनोनिमस नाम से निहायत ही खराब कमेंट्स मेरे पिछले कुछ पोस्ट्स पर आते रहे, जिनमे मेरे घर को, मेरे ट्यूशन पढ़ाने के काम को, मेरे मित्रो को बेहद गिरी हुई बातें कही गई थी पर मैं इनसे कभी नही उलझा. पर इस बार लगा कि ऐसी उर्जा या ऐसा समय बचाकर क्या मैं उसका अचार डालूंगा जब मैं अपने आत्माभिमान की रक्षा भी ना करूँ? जबकि कोई इस बेनामी से मेरे ब्लॉग की रैंकिंग पूछने नही गया था फिर भी यह नामुराद बिन बुलाये मेहमान की तरह अपनी गन्दी राय लेकर हाजिर हुआ. फिर भी मैने इसे सम्मान दिया वरना दूसरे ब्लॉग पर बेनामियों के साथ बड़ा बुरा होता है जहाँ लोग बेनामी को छोड़ उसके माँ बाप के चरित्र के पीछे पड़ जाते हैं. लगा कि कोई अहंकारी बन्दा है तो थोड़ी देर खुद को ही दबा कर रखने मे कोई हर्ज नही. पर यह तो शैतान बच्चे की तरह सर पर चढ़ गया. सच तो यह है बेनामी कि ये रेटिंग वेटिंग मैं जानना नही चाहता वरना तुम ही नही बचे थे पूछने के लिये, कितने सारे काबिल दोस्त हैं जो Microsoft, yahoo, google, rediff, oracle, इत्यादि में बैठे हैं और ब्लॉग सम्बन्धी कोई भी चीज सही करा सकते हैं. पर मेरी कोई दिलचस्पी नही थी ऐसी. जिस समय तुमने कमेंट किया उस समय लगा कि चलो अपने बीच का बन्दा है कुछ सलाह मांग ही लेते हैं पर तुमने ..हद कर दी यार!!


Now, Mr. Anonymous this is especially for you: ये मैं सभी सुधीजनों/ब्लागरों को बेहद विनम्रता पूर्वक बताना चाहता हूँ कि अनॉअनिमस नाम से डरने की कोई जरूरत नही. लैपटॉप चोरी हुआ तो उसकी खोज के सिलसिले में कई सारे अच्छे पुलिस वालो से परिचय बात हुआ जो साईबर क्राईम देखते हैं. आज ऑफिस का काम निपटा मैं उनसे मिलने गया और उन्होने मेरी इतनी बड़ी समस्या को मिनटों में निपटा दिया. कहा कि (1)अनॉनिमस नाम के कमेंट से भी उस कम्प्यूटर के आई.पी. अड्रेस का पता, कम्प्यूटर कहाँ किस शहर में है इसका पता और किसके नाम है इसका भी पता चल जाता है और (2) दूसरे, नाम बदल कर, छुप कर फोन से या इंटरनेट के जरिये मानसिक प्रतारणा देना बहुत बड़ा अपराध है, जो दो धाराओं के तहत दर्ज किये जाते हैं.. तो मिस्टर अनॉनिमस, प्लीज लिसेन केयरफुली टू मी कि अगर मैं अपने वाली पर उतर गया तो भारी नुकसान हो जायेगा. दरअसल लगता यही है कि किसी जिद्दी से तुम्हारा पाला नहीं पड़ा अब तक.

ऐसा कहने में मुझे कोई खुशी नही है पर कई सारे अनॉनिमस को झेलते झेलते मैं परेशान हो गया हूँ. ये लोग मुझ पर पर्सनल अटैक करते है. मैं बहुत मुश्किलवाली नौकरी करता हूँ उसमें ऐसी बदमाशियों से नुकसान मेरा होता है.और अब यह अनामी हल्ला मचायेगा कि वो सार्थक बहस कर रहा था या मेरी आलोचना कर रहा था और मैं उसे कानून की धौंस दे रहा हूँ. पर मैं कहता हूँ कि बिना नाम के कौन सी बहस होती है रे? कौन आलोचक बिना अपने नाम के आलोचना करता है बे? साहस है तो नाम के साथ आओ. कौन सी मजबूरी है तुम्हारे जैसों कि जो छुप कर कमेंट कर रहे हो?

लोगों ने कहा कीचड़ में पत्थर मारोगे तो छींटा तुम पर भी आयेगा. मैने बहुत सोचा और पाया कि क्या हुआ जो छींटा आयेगा, ऐसा होगा तो स्नान कर लेंगे, मगर छींटे के डर से घर की सफाई तो नही रुक सकती ना!

रही बात तुमसे डरने की तो मेरी सुन... डरना होगा तो (सु)नामी से डरेंगे, किसी अनामी या बेनामी से नही. अगला कोई भी कमेंट अपने नाम के साथ करना.

मित्रों, अब यह अध्याय बन्द. कल से हम कविताओं की तमाम नई श्रिंखलायें शुरु करेंगे और उन्ही पर बात भी करेंगे.